ISO क्या है? ISO full form in Hindi, ISO के फायदे

आज हम ISO के बारे में जानेंगे जैसे की, ISO क्या है, ISO का full form, What is ISO in Hindi?, आईएसओ के फायदे, आईएसओ सर्टिफिकेट क्या होता है? इत्यादी के बारे में सविस्तर में जानेंगे।

ISO full form – ISO full form in Hindi

International Organization for Standardization यह ISO का full form है जिसे हिंदी में अंतरराष्ट्रीय मानकीकरण संगठन कहा जाता है।

iso in hindi, iso full form in marathi, iso full form in hindi, iso ki jankari hindi mein, what is iso in hindi, iso full form in hindi, iso kya hai, iso full form in hindi,आईएसओ के कार्य, iso ka full form, iso information in hindi, Types of ISO certification, iso in hindi, iso 9000 in hindi,iso hindi, Benefits of ISO in hindi , iso full form in india, आयएसओ के फायदे,

What is ISO in Hindi – आईएसओ क्या है?

ISO यह एक तरह का Quality Standards Certificate है जो कंपनी, व्यवसाय या उद्योगों को दिया जाता है। ISO द्वारा कंपनी या संस्था की जाच की जाती है जैसे की, प्रोडक्ट क्वालिटी, गुणवत्ता, ग्राहक समाधान, शुद्धता और Management systems इत्यादी।

फिर जब यह प्रमाणित होता है की, यह कंपनी या संस्था सही तरीके से चल रही है तब आईएसओ संस्था द्वारा ये गुणवत्ता प्रमाणपत्र दिया जाता है।

ISO History In Hindi

ISO की स्थापना 23 फरवरी 1947 में हुई थी और इसका Headquarters जेनेवा स्विजरलैंड में है। लंडन में 14 अक्टूबर 1946 में ISO की पहली बैठक हुई थी।

आईएसओ यह एक तरह का Quality Standards Certificate है जो कंपनी, व्यवसाय या उद्योग को दिया जाता है और 155 से भी ज्यादा देश ISO के सदस्य है। ISO प्रमाणीकरण यह अपने व्यापार विश्वसनीयता के साथ व्यापार में सुधार के लिए भी काफी मदद करता है।

कोई भी कंपनी या उद्योग किसी भी प्रकार के प्रोडक्ट बनाती है या उत्पादन करती है तो उसके Management systems की जाँच करने का काम अंतरराष्ट्रीय मानकीकरण संगठन/आईएसओ करती है।

जैसे की, प्रोडक्ट क्वालिटी, सेवा और प्रणालियों की गुणवत्ता, सुरक्षा और दक्षता सुनिश्चित करना और शुद्धता आदि। और जाँच पूरी होने के बाद उस कंपनी को अपने उत्पाद और प्रोडक्ट बेचने में बहुत आसानी हो जायेगी।

आईएसओ/ISO का मुख्य उद्देश्य यह होता है की संबंधित गतिविधियों के विकास के लिए प्रोत्साहन देना, उनकी बौद्धिक, वैज्ञानिक और आर्थिक गतिविधियों में मदद करना।

ISO के कार्य

आईएसओ का मुख्य कार्य यह है की, कंपनी या फिर कोई संस्था जो भी प्रोडक्ट बेचती है उनकी क्वालिटी, सेवा की गुणवत्ता, ग्राहकों का समाधान, मैनेजमेंट सिस्टम, सुरक्षा और शुद्धता की जाँच करती है और जाँच करने के बाद जब यह पता चलता है की वह कंपनी या व्यवसाय सही तरीके से चल रहा है या नहीं।

उसके बाद ISO द्वारा उस कंपनी को ISO Certificate दिया जाता है ताकि वह अपने प्रोडक्ट को बाजार में आसानी से बेच सके और इस प्रमाणपत्र से ये भी पक्का हो जाता है की, कंपनी की तरफ से जो भी प्रोडक्ट बनाया गया है उससे किसी भी ग्राहकों को नुकसान नही पहुंचेगा।

पहले Company या संस्था को ISO द्वारा 9001:2008 यह Certificate दिया जाता था लेकिन अब ISO 9001:2015 यह सर्टिफ़िकेट प्रदान किया जाता है।

Types of “ISO” certification

  • ISO 9001 2008 – Quality Management
  • ISO 10012 – Measure Management System
  • ISO 14001:2015- Environmental Management
  • ISO 2700:2013 – Information security Management
  • ISO 22008:2005 – Food Safety Management
  • ISO 29990 – Learning Services for Non-formal Education and Training
  • ISO 20000-1 – IT Service Management System
  • ISO 50001 – Energy Management

ISO 9000 in Hindi – ISO 9000 क्या है?

दुनिया भर में एक मिलियन से ज्यादा संगठन या संस्थाए स्वतंत्र रूप से प्रमाणित हैं, जिससे ISO 9001 यह आज दुनिया में सबसे व्यापक रूप से उपयोग किए जाने वाले प्रबंधन उपकरणों में से एक है। QMS याने quality management systems(गुणवत्ता प्रबंधन प्रणाली) का iso 9000 परिवार मानकों का एक समूह है।

आईएसओ 9000 का उपयोग यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि कस्टमर को लगातार, अच्छी गुणवत्ता वाले प्रोडक्ट और सर्विस मिलती हैं, जो बदले में कई व्यावसायिक लाभ देती हैं।

ISO 9000 – ISO 9001 की जानकारी

पहले कंपनी को ISO द्वारा 9001:2008 यह Certificate दिया जाता था लेकिन अब ISO 9001:2015 यह सर्टिफ़िकेट प्रदान किया जाता है और ISO 9000 की देखभाल International standardization organization द्वारा ही की जाती है। (ये मान्यता और प्रमाणीकरण अधिकारियों द्वारा प्रबंधित किया जाता है।) अगर आवश्यकता रही तो इसके नियमों में बदल भी किये जाते है।

ISO 9000 यह एक Quality management systems का वर्ग है जो 1987 में iso ने जारी किया था। अब ISO 9001 गुणवत्ता प्रबंधन प्रणाली लगभग 180 देशों में १० लाख से अधिक प्रमाणित संगठनों के साथ, दुनिया की सबसे अच्छी और लोकप्रिय गुणवत्ता सुधार प्रणाली है।

Benefits of ISO in Hindi – ISO के फायदे

ISO यह एक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त Quality Standards Certificate है, ISO Certificate से हमे क्या बेनिफिट मिलते है यह हम निचे जानते है:

  1. ISO यह व्यवसाय या उद्योग में आने वाले अवरोधों को कम करने में मदद करती है।
  2. आयएसओ से एक बहुत अच्छा फायदा यह होता है की, इसमे बहुत साफ़-सुथरा व्यवहार होता है और इससे नये ग्राहक आकर्षित होते है और उनका विश्वास बढ़ने में मदद होती है।
  3. व्यापार के बीच प्रतिस्पर्धा के साथ अपना स्थान बाजार में बनाए रखने के लिए और उत्पादन और सेवाओं की उच्च गुणवत्ता प्रदान करने के लिए ISO महत्वपूर्ण है।
  4. ISO यह उद्योग या व्यवसाय में शुद्धता और बढ़ोत्तरी मिलने में बहुत महत्वपूर्ण है।
  5. आयएसओ से बाजार में सेवा और उत्पादों के प्रति विश्वसनीयता बढ़ने में मदद होती है।
  6. ISO सर्टिफ़िकेट से कम लागत में उत्पादकता बढ़ने के साथ पैसे और समय दोनों को बचाने में मदद मिल जाती है।
  7. मानक परिभाषित मानकों की लगातार गुणवत्ता सुनिश्चित करता है, जिससे आपके उत्पादों और सेवाओं से जुड़े ग्राहकों की अपेक्षाएँ कम हो जाती है और ग्राहक समाधानी होता है।
  8. ISO यह प्रमाणित करता है की, ये संस्था या management system निर्माण प्रक्रिया, सेवा दस्तावेज़ प्रक्रिया में सभी शामिल हैं।
  9. तो किसी कंपनी के लिए या फिर कोई व्यापार करने लिए ISO Certificate होना बहुत जरूरी है क्योंकि इससे यह पता चलता है की आपके उत्पादों की गुणवत्ता और शुद्धता कैसी है।

ये भी पढ़े:
1. FSSAI क्या है?, FSSAI की पूरी जानकारी
2. Kanban system in Hindi – कनबन प्रणाली की जानकारी
3. What is Management in Hindi

FAQs for ISO – ISO के बारे में कुछ सवाल जवाब

ISO का full form क्या है?

ISO का फुल फॉर्म International Organization for Standardization यह है।

आईएसओ क्या है?

ISO यह एक तरह का Quality Standards Certificate है जो कंपनी, व्यवसाय या उद्योगों को दिया जाता है।

ISO को हिंदी में क्या कहते है?

आईएसओ को हिंदी में अंतरराष्ट्रीय मानकीकरण संगठन कहते है।

आईएसओ की स्थापना कब हुई?

ISO की स्थापना 23 फरवरी 1947 में हुई थी और इसका मुख्यालय जेनेवा स्विजरलैंड में है।

ISO के प्रकार कितने है?

आईएसओ के प्रकार इस तरह है: ISO 9001 2008 – Quality Management, ISO 10012 – Measure Management System, ISO 14001 – Environmental Management, ISO 27001 – Information security Management, ISO 22008 – Food Safety Management, ISO 29990 – Learning Services for Non-formal Education and Training, ISO 20000-1 – IT Service Management System, ISO 50001 – Energy Management।

आपको ISO याने International Organization for Standardization के बारे में काफी कुछ जानकारी मिली होंगी की ISO क्या है, ISO full form in hindi, आईएसओ के कार्य, और आयएसओ के फायदे इत्यादी।

उम्मीद करते है की, “What is ISO in Hindi? – आईएसओ के फायदे” यह पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों में शेयर करें और हमे कमेंट्स करके ज़रूर बताये।

About Rashmi Alone

I am a professional blogger from India. Here at "Hindi Sutra" I write all about Investment, Business, Internet, Management, Technology tips, Education, etc.

Leave a Comment