एटीएम क्या है? एटीएम के प्रकार | ATM In Hindi, Types Of ATM In Hindi

आपने एटीएम मशीन को कई बार देखा होंगा और इसका इस्तेमाल भी किया होंगा, परन्तु इस एटीएम के बारे में आपको जादा इनफार्मेशन नहीं होंगी। इसलिए इस पोस्ट में हम एटीएम मशीन की जानकारी जानेंगे जैसे की, एटीएम क्या है, एटीएम के प्रकार, एटीएम के फायदे नुकसान, atm full form in hindi, atm machine kya hai, atm definition, इत्यादी।

types of atm in hindi, एटीएम क्या है, एटीएम कितने प्रकार के होते है, एटीएम के फायदे, एटीएम के नुकसान, एटीएम के प्रकार, atm full form in hindi, atm in hindi, what is atm in hindi, atm kya hota hai, atm kya hai, atm types in india, एटीएम मशीन, atm definition in hindi, atm full form, एटीएम मशीन क्या है, एटीएम मशीन के प्रकार,

ATM Full Form In Hindi

एटीएम का फुल फॉर्म Automated Teller Machine ऐसा होता है, इसे हिंदी में स्वचालित टेलर मशीन या स्वचालित गणक मशीन कहा जाता है।

एटीएम क्या है? – What Is ATM In Hindi

एटीएम यह एक कंप्यूटराइज्ड और दूरसंचार नियंत्रित उपकरण है, जो बैंक खाता धारक या अन्य बैंक ग्राहकों को वित्तीय हस्तांतरण से जुड़ी कई सेवाएं उपलब्ध कराता है। यह ATM बहुत सुविधाजनक होते है, क्योंकी एटीएम द्वारा हस्तांतरण प्रक्रिया में ग्राहक को क्लर्क, कैशियर या बैंक टैलर के मदद की कोई आवश्यकता नहीं पड़ती।

इन एटीएम मशीन द्वारा बिना बैंक जाए हम अपने बैंक खातो को एक्सेस कर सकते है, इस ATM Machine से पैसे निकाल सकते है, अपने बैंक खाते में पैसे भर भी सकते है और चेक डिपॉजिट भी कर सकते है। इसके साथ साथ हम अपने कई काम आसानी से कर सकते है जैसे की, atm pin चेंज करना, मनी ट्रांसफर, आधार और मोबाइल नंबर लिंक करना, बैलेंस चेक करना, मिनी-स्टेटमेंट निकालना, इत्यादी।

इस ATM Machine का अविष्कार 1960 के दशक में एक भारतीय मूल के ब्रिटिश आविष्कारक John Shepherd-Barron ने अपनी एक टीम के साथ मिलकर किया था। इस एटीएम मशीन का सबसे पहले उपयोग 27 जून 1967 को इंग्लैंड में बार्कलेज़ बैंक की एक शाखा में किया था। और हमारे भारत में मुंबई के HSBC Bank ने 1987 में पहला एटीएम मशीन लगाया था।

एटीएम की परिभाषा – ATM Definition

एटीएम मशीन यह एक विशेष दूरसंचार नियंत्रित तथा कंप्यूटराइज्ड उपकरण है, जो बैंक खाता धारक या ग्राहकों को वित्तीय हस्तांतरण से जुड़ी सेवाएं उपलब्ध कराता है और अन्य बैंकिंग कार्य को सुविधाजनक बनाता है।

Types Of ATM In Hindi – एटीएम के प्रकार

एटीएम कितने प्रकार के होते है: आज के समय में एटीएम मशीन का उपयोग करना लगभग हर व्यक्ति के व्यवहार का अहम हिस्सा बन गया है, परन्तु इन ATM के भी कई प्रकार होते है यह बहुत कम लोगो को पता है। तो इसलिए हमने निचे एटीएम के प्रकार की जानकारी दी है:

  • White Label ATM
  • Green Label ATM
  • Yellow Label ATM
  • Orange Label ATM
  • Pink Label ATM
  • Brown Label ATM
  • Biometric ATM
  • On Side ATM
  • Off Side ATM
  • Micro ATM

White Label ATM (व्हाइट लेबल एटीएम):

व्हाइट लेबल एटीएम यह ऐसे एटीएम है, जो नॉन-बँकिंग वित्तीय कंपनी द्वारा खरीदे और संचालित किए जाते हैं। यह White Label ATM सभी बैंक के ग्राहको को सुविधा देता है। इन एटीएम पर बैंक के बजाय उस कंपनी का लोगो लगा होता है, जिस कंपनी द्वारा यह एटीएम मशीन की सुविधा प्रदान की गई है।

Green Label ATM (ग्रीन लेबल एटीएम):

यह ग्रीन लेबल एटीएम मुख्य रूप से कृषि से संबंधित लेनदेन के लिए लगाये जाते हैं, इन्हें सिर्फ़ कृषि प्रयोजनों के लिए उपयोग किया जाता है इसलिए इन एटीएम को Green Label ATM कहा जाता है।

Yellow Label ATM (येलो लेबल एटीएम):

इस Yellow Label ATM का मुख्य रूप से ई-कॉमर्स लेनदेन के लिए उपयोग किया जाता है।

Orange Label ATM (ऑरेंज लेबल एटीएम):

यह ऑरेंज लेबल एटीएम बैंको द्वारा शेयर या स्टॉक मार्केट से जुड़ी लेनदेन के लिए स्थापित किए जाते हैं।

Pink Label ATM (पिंक लेबल एटीएम):

यह Pink Label ATM विशेष रूप से महिलाओं के बैंकिंग कार्य के लिए लगाए जाते हैं, जिससे महिलाओं को लंबी लाइन और प्रतीक्षा समय से बचने में मदद मिलती है।

Brown Label ATM (ब्राउन लेबल एटीएम):

इस Brown Label ATM को बैंक के अलावा किसी तीसरे पक्ष द्वारा संचालित किया जाता है। इस ब्राउन लेबल एटीएम का स्वामित्व अन्य कंपनी के पास होता है, परन्तु दूरसंचार नियंत्रित और नगद पैसो का काम बैंक संभालता है।

Biometric ATM (बायोमेट्रिक एटीएम):

बायोमेट्रिक उपकरण का उपयोग फ़िंगरप्रिंट, आईरिस, आधार संख्या धारकों से जानकारी को कैप्चर करने के लिए या डेटा इनपुट करने के लिए किया जाता हैं। इस प्रकार बायोमेट्रिक डेटा का उपयोग करके जिस उपकरण से ट्रांजेक्शन किया जाता है उसे बायोमेट्रिक एटीएम कहा जाता है।

On Side ATM (ऑन साइड एटीएम):

जो एटीएम बैंक परिसर या बैंक ब्रांच के अंदर ही स्थित होते हैं उन्हें On Side ATM कहा जाता है।

Off Side ATM (ऑफ साइड एटीएम):

यह एटीएम बैंक परिसर या बैंक ब्रांच के बाहर स्थित होते हैं, इसलिए इन ATM को ऑफ साइड एटीएम कहा जाता है। यह Off Side ATM मशीन पब्लिक प्लेस पर लगाये जाते है जैसे की शॉपिंग मॉल, एअरपोर्ट, रेलवे स्टेशन, पेट्रोल पंप, मार्किट एरिया, हाइवेज, इत्यादी।

Micro ATM (माइक्रो एटीएम):

Micro ATM यह एटीएम का एक छोटा संस्करण है, जिसमे कार्ड स्वाइप की सुविधा होती है। यह माइक्रो एटीएम आपको शॉपिंग मॉल, रेस्टोरेंट, होटल, पेट्रोल पंप इत्यादि जगहों पर मिलते है, जहा डेबिट या क्रेडिट कार्ड को स्वैप करके पेमेंट किया जाता है।

एटीएम के फायदे – Advantages Of ATM

  • किसी भी समय हम ATM से पैसे निकाल सकते है और बैलेंस चेक भी कर सकते है।
  • एटीएम द्वारा बैंक खाता धारक पैसे ट्रांसफर कर सकता हैं और अपनी पिन भी बदल सकता हैं।
  • हम कहीसे भी तत्काल नकद निकाल सकते है इसलिए यह एटीएम यात्रियों के लिए बहुत फायदेमंद है।
  • यह ATM बिना किसी कर्मचारी के ग्राहकों को 24 घंटे सेवाएं प्रदान करता है।
  • इसके द्वारा नकद रुपये की निकासी बैंक से तेज है, क्योकि यहाँ लंबी लाइनों में खड़े होने की जरूरत नहीं है।
  • आज बैंकों ने अपने एटीएम सार्वजनिक स्थानों में स्थापित किए हैं जैसे, मॉल, बाजारों, रेलवे स्टेशन, एअरपोर्ट, स्टेशनों, अस्पताल, राजमार्ग, आदि।

एटीएम के नुकसान – Disadvantages of ATM

  • कुछ बैंक ग्राहकों को इसके संचालन का उचित ज्ञान नहीं होता, जिससे उनके लिए एटीएम का उपयोग करना कठिन होता है।
  • व्यक्तिगत सेवा की कमी एटीएम मशीनों का एक नुकसान है।
  • एटीएम कार्ड खो जाने पर एटीएम से नगद रुपये की निकासी नहीं होगी।
  • इन ATM से तय सीमा तक ही पैसे निकाल सकते है।
  • पिन लीक होने पर धोखाधड़ी आसानी से हो सकती है।
  • इन एटीएम मशीनों को अपराधियों, लुटेरों और हैकरों द्वारा निशाना बनाया जा सकता है।

यह भी पढ़े:
1. Master Card और Rupay Card में क्या अंतर है?
2. Visa Card क्या है? और वीजा कार्ड के सभी प्रकार
3. Cheque क्या है? और बैंक चेक के प्रकार

FAQs For ATM Machine In Hindi

एटीएम का आविष्कार कब और किसने किया?

एटीएम का आविष्कार जॉन शेफर्ड बैरोन ने किया था, इनके द्वारा निर्मित पहली एटीएम मशीन 27 जून 1967 में लंदन के बार्कलेज बैंक की एक शाखा में लगाई गई।

क्या एटीएम का उपयोग करना सुरक्षित है?

यदि आप अपना एटीएम पिन किसी के साथ साझा नहीं करते या किसी धोखेबाजों के शिकार नहीं होते हैं, तो आपके लिए एटीएम का उपयोग करना बिलकुल सुरक्षित है।

एटीएम की परिभाषा क्या है?

एटीएम मशीन यह एक विशेष दूरसंचार नियंत्रित और कंप्यूटराइज्ड उपकरण है, जो बैंक खाता धारक या ग्राहकों को वित्तीय हस्तांतरण से जुड़ी सेवाएं उपलब्ध कराता है और धन का प्रबंधन करना सुविधाजनक बनाता है।

एटीएम मशीन कितने प्रकार के होते हैं?

एटीएम मशीन के कई प्रकार होते है जैसे की, माइक्रो एटीएम, व्हाइट लेबल एटीएम, ब्राउन लेबल एटीएम, ग्रीन लेबल एटीएम, ऑरेंज लेबल एटीएम, एल्लो लेबल एटीएम, पिंक लेबल एटीएम, बायोमेट्रिक एटीएम, ऑन साईड और ऑफ साइड एटीएम, इत्यादी।

तो दोस्तों यह थी ATM की जानकारी, जिसमे हमने एटीएम क्या है, एटीएम के प्रकार, atm full form in hindi, what is atm in hindi, atm definition, एटीएम के फायदे नुकसान, इत्यादी के बारे में जाना। यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी तो हमें कॉमेंट्स करके बताये और अपने दोस्तों में जरुर शेयर करे।

About Rashmi Alone

I am a professional blogger from India. Here at "Hindi Sutra" I write all about Investment, Business, Internet, Management, Technology tips, Education, etc.

Leave a Comment