What is CDN full form, CDN kya hai, benefits of CDN in Hindi

CDN क्या है – CDN full form : आप blog या WordPress website पर work करते होंगे, तो आपने CDN का नाम तो सुना ही होंगा। सीडीएन यह website या blog की loading speed को बढ़ाने के साथ साथ website की google search ranking बढ़ाने के लिए भी बहुत मदद करता है।

तो आगे हम इस पोस्ट में What is CDN in Hindi, सीडीएन क्या है, CDN full form, How to work CDN, website या blog के लिए CDN क्यों जरूरी है, सीडीएन का उपयोग करने से क्या फ़ायदे होते है, types of CDN in Hindi, free cdn providers in India इन सब की पूरी जानकारी जानेंगे।

What is CDN full form- CDN kya hai- benefits of CDN in hindi

CDN full form – CDN meaning

“ Content Delivery Network ” या ” Content Distribution Network ” यह CDN का full form है। जिसे हिंदी में सामग्री वितरण नेटवर्क कहते है।

What is CDN in Hindi – CDN क्या है

Content Delivery Network यानि CDN यह users के लिए एक तेज अनुभव प्राप्त कर देता है और website की traffic बढ़ाने के लिए भी बहुत मदद करता है। और उसके साथ साथ google searching में भी बहुत मदद करता है।

अगर आपने CDN को अपने server पर enable किया है तो आपकी site जल्दी open हो जाएगी, जिसकी वजह से आपके blog या website पर ज्यादा लोग आयेंगे और google में आपकी site जल्द ही rank हो जाएगी। इसलिए blog या website के लिए CDN बहुत जरूरी और helpful होता है और इससे आपको अपनी earning में भी बहुत फ़ायदा होंगा।

ज्यादातर new blogger hosting ख़रीदना चाहते है तो Bluehost या Hostgator की shared hosting ही ख़रीदते है, तो इसमे आपको SSL certificate, unlimited websites, bandwidth जैसी free service provide करते है।

Shared hosting में ज्यादा website होने के कारण site open होने में बहुत time लगता है तो ऐसे में आप CDN का इस्तेमाल अपने website में करते है तो आपकी website जल्द ही open हो जाएगी और इससे अच्छे विजिटर भी आ सकते है। दोस्तों आप अपने blog या website के लिए free या paid CDN का उपयोग कर सकते है।

How CDN works – सीडीएन कैसे काम करता है

सीडीएन का मुख्य काम website या blog की speed को बढ़ाना है। अगर आपका blog है या hosting पर website है तो आपके site की loading speed को बढ़ाने के लिए CDN बहुत मदद करता है। दोस्तों एक CDN server का एक network है जो, content को fast और सुरक्षित रूप से वितरित करने का काम करता है।

जब भी कोई website या blog open करने पर जल्दी ओपन नही हो जाता तो ऐसे वक्त में CDN काम करता है लेकिन इसके लिए अपनी website में CDN enable होना चाहिए। site की loading speed में improve करने के लिए CDN बहुत जरूरी होता है।

Content Delivery Network यानि CDN का दूसरा महत्वपूर्ण काम यह है की, जैसे ही आपकी site fast load हो जाएगी तो जल्द ही google ranking में यानि google के पहले पेज पर ही जल्दी आ जाएगी, इसका मतलब CDN का उपयोग करने से website को google search ranking में भी बहुत मदद मिल जाएगी।

CDN advantages – CDN का उपयोग करने से क्या फ़ायदे होते है

Benefits of CDN – अपने blog या website में अगर आप CDN यानि Content Delivery Network का उपयोग करते है, तो आपकी website google में बहुत जल्द rank हो जायेगी और आपको इससे बहुत से फ़ायदे भी होंगा। तो हम जानते है की, blog या website में CDN use करने से क्या फ़ायदे होते है।

1) High traffic को handle करना
2) Google search ranking में मदद
3) Loading speed को बढ़ाता है
4) Bounce Rate को कम करता है
5) Improving website security
6) bandwidth cost को कम करता है

इन सबका विश्लेषण आगे सविस्तर में दिया गया है।

1) High traffic को handle करना

सीडीएन का उपयोग करने से आप ज्यादा traffic को control कर सकते है क्योंकि CDN के server अलग अलग जगहों पर मौजूद होते है और इसकी वजह से ही लोग जहा से searching करते है, उन्हें उनके आसपास के ही सीडीएन सर्वर के जरिये data प्रदान किया जाता है और इसी कारण से एक साथ ही आपकी website पर ज्यादा लोग आते है इसलिए website के लिए CDN enable होना बहुत जरूरी है।

2) Google search ranking में मदद

Google SERP – search engine result page यानि google first-page में उसी website को बहुत जल्द rank करता है, जिस site की loading speed fast है और site या blog जल्दी open हो जाता है।

अगर आपकी site जल्दी open नही हुई तो ऐसे में visitors किसी दूसरी site पर visit करते है और इसी कारण से आपकी website searching में नही आती और जल्दी rank भी नही हो सकती, इसलिए website या blog में CDN use करना बहुत आवश्यक होता है, क्योकिं website में CDN का उपयोग करने से site बहुत जल्द rank हो जाएगी।

3) Loading speed को बढ़ाता है

वेबसाइट की लोड समय में सुधार – दोस्तों अगर आपकी website users के server पर जल्दी open नही हो जाती तो ऐसे वक्त में users किसी और की site पर visit करने लगते है, ऐसे में आपकी website पर ज्यादा visitors नही आ पाते।

अगर आपको ऐसा लगता की अपनी site भी जल्दी open हो जाये और site पर ज्यादा लोग आये तो इसलिए दोस्तों आपको अपनी website की loading speed को बढ़ाने के लिए CDN का उपयोग करना आवश्यक होता है, इससे आपकी site fast open हो जाएगी और site पर visitors भी आने लगेंगे।

CDN use करने से website या blog की loading speed improve करने में और site को fast open होने में बहुत मदद हो जाती है। और visitors को site open होने तक इंतजार भी नही करना पड़ता और इसी की वजह से आपकी site पर ज्यादा traffic भी आ सकते है।

4) Bounce Rate को कम करता है

अगर किसी user ने आपकी website open की है और आपकी site बहुत slow open हो रही है, तो ऐसे में user आपकी site को open करके ही छोड़ देता है, इसी वजह से आपके blog या website का bounce rate बढ़ जाता है।

तो आप अपने website का बाउंस रेट कम करना चाहते है तो आपको website के लिए CDN का उपयोग करना चाहिए, इससे आपके site की speed भी बढ़ जाएगी और site पर ज्यादा traffic भी आने लगेंगे। इस तरह से CDN आपकी website का bounce rate कम करने में बहुत help करता है।

5) Improving website security 

अगर आपके website या blog में CDN enable है तो यह आपकी website की security में improve कर सकता है। इसलिए site की सुरक्षा के लिए CDN बहुत फ़ायदेमंद होता है।

6) bandwidth cost को कम करता है

Reducing of bandwidth costs – जब भी कोई blogger hosting ख़रीदते है, तो उसमे आपको bandwidth service प्रदान की जाती है और वह limited या unlimited भी हो सकती है।

website hosting के लिए bandwidth का ख़र्च एक primary cost है। caching और अन्य optimizations के जरिये, CDN data को एक मूल server द्वारा प्रदान की जाने वाली डेटा की मात्रा को कम करने में सक्षम होता है, इस प्रकार से CDN website owners के लिए होस्टिंग का ख़र्च कम करता है। इसलिए सीडीएन use करने से bandwidth cost को कम करता है।

ये भी पढ़े :- what is ssl certificate and types of ssl in hindi

Main types of Content Delivery Network ( CDN )

Types of CDN: Content Delivery Network – CDN के मुख्यतः तीन प्रकार होते है, वह नीचे दिए गये है

1) Peer-to-peer CDN
2) Content Service Protocols
3) Private CDN
4) pull CDN
5) push CDN

The Best CDN Providers – CDN Companies in India

Top 10 CDN Providers: आज internet का बहुत उपयोग हो रहा है और online business भी काफी बढ़ रहा है और साथ ही साथ सीडीएन का भी महत्व बढ़ रहा है। CDN use करने से server और users को बहुत benefits मिल रहे है।

अपने website की ranking बढ़ाने के लिए, speed up करने के लिए कुछ paid और कुछ best free content delivery network ( CDN ) हैं।

Content Delivery Network Companies – CDN providers in India

Cloudflare India
Incapsula CDN
Max CDN
Photon by Jetpack CDN
Fastly
MetaCDN
Key CDN
photon by jetpack CDN
SwarmCDN
Coral CDN
Google Cloud CDN
Amazon Cloudflare – Amazon Web Services (AWS )
Leaseweb
Microsoft Azure CDN
Akamai
CDN77
Stackpath CDN

ये भी पढ़े :-  what is web hosting and types of web hosting hindi

इनमें आपको Cloudflare free CDN, Incapsula CDN, SwarmCDN, Coral CDN, Google Cloud CDN जैसे free best content delivery network (CDN) मिलेंगे, जो आप आपकी website की speed बढ़ाने के लिए free में use कर सकते है।

तो आपको CDN के बारे में बहुत कुछ जानकारी मिली होंगी की CDN क्या है, CDN कैसे काम करता है, सीडीएन के प्रकार, CDN का अपने blog या website में उपयोग करने से क्या benefits होते है और best CDN providers companies इन सब के बारे में पूरी और सही जानकारी मिली होंगी।

उम्मीद है की आपको ” What is CDN full form – CDN kya hai – benefits of CDN in hindi ” यह article पसंद आया होंगा, अगर आपको हमारा यह article पसंद आया तो अपने दोस्तों में share करे और हमे comments करके जरुर बताये।

Leave a Comment