Stenographer-Stenography In Hindi | स्टेनोग्राफर क्या है, स्टेनोग्राफर कैसे बने?

स्टेनोग्राफर, Stenographer In Hindi: Stenography यह युवाओं के लिये अच्छा करियर है, यह stenographer course आप 10 वी कक्षा के बाद भी कर सकते है। इसे लिखने की कई प्रणाली प्रचलन में है जैसे अंग्रेजी में पीटमैन मुख्यतः प्रचलित है, और हिन्दी में ऋषि प्रणाली, विशिष्ट प्रणाली, सिह प्रणाली इत्यादी है। वैसे तो हर एक लेखक की अपनी एक विशेष प्रणाली बन जाती है।

Stenographer (आशुलिपिक) पर कार्यालय या संस्था के गोपनीय रिकॉर्डों को संभालने की responsibility याने दायित्व होता है। स्टेनोग्राफर यह पद अपने विशेष अधिकारी के प्रति विश्वसनीय पद होता है, और इस पद पर काम करना एक गरिमापूर्ण व चुनौतीभरा होता है। भारत में स्टेनोग्राफर के पद विशेषरूप से शासकीय कार्यालयों, संस्था, मंत्रालयों, अदालतों, रेल्वे विभागों में होते हैं।

stenographer meaning in hindi, stenographer in hindi, stenography meaning in hindi, stenography course meaning in hindi, stenography in hindi, what is stenographer in hindi, stenographer in hindi meaning, steno course meaning in hindi stenographer hindi meaning, stano course meaning in hindi, what is stenography in hindi,

तो आगे हम स्टेनोग्राफर क्या है और कैसे बने, stenographer के लिए योग्यता, stenographer course, स्टेनोग्राफर का काम और Stenography से संबंधित पूरी जानकारी जानेंगे।

एक अच्छा और कुशल स्टेनोग्राफर बनाने के लिए हार्डवर्क और अच्छे स्टेनोग्राफी कोर्स की आवश्कता होती है, और उस विषय की भाषा का ज्ञान और व्याकरण का ज्ञान होना भी बहुत आवश्यक होता है। क्योंकि एक Skilled stenographer बनने के लिए शब्दों की गति होना बहुत आवश्यक है।

स्टेनोग्राफी क्या है? – What Is Stenography In Hindi

आशुलिपि याने Shorthand यह एक लिखने की एक पद्धति है, जिसमें सामान्य लिखाई की तुलना से अधिक तेज गति से लिखा जा सकता है। इसमें छोटे छोटे Symbols याने प्रतीकों का प्रयोग किया जाता है और इसीही आशुलिपि याने Shorthand में लिखने की क्रिया को आशुलेखन याने Stenography कहा जाता है।

स्टेनोग्राफी का तात्पर्य यह है की, तेज और संक्षिप्त लिखाई। हम इस लेखन को हिन्दी मे ‘शीघ्रलेखन’ या ‘त्वरालेखन’ भी कह सकते हैं।

Stenography Definition

Stenography एक प्रकार की भाषा है, इस language को Coding language या फिर Short hand language भी कह सकते है। इसी भाषा का उपयोग करके किसी संभाषण याने स्पीच को शार्ट में तेज गति से लिखना पड़ता है जिसे स्टेनोग्राफी कहते है।

Stenography Meaning In Hindi

Stenography को हिंदी में आशुलिपि या शार्ट-हैंड कहा जाता है।

Shorthand meaning – Shorthand क्या होता है?

Shorthand hindi meaning: Short Hand को हिंदी में “आशुलिपि” कहते हैं, जो कि तेज गति से लिखने के लिए प्रयोग की जाती है, किसी भी व्यक्ति के बोलने की गति को शॉर्टहैंड के coding language द्वारा तेज गति से लिखा जा सकता है।

What Is Stenographer In Hindi – स्टेनोग्राफर (आशुलिपिक) क्या है?

स्टेनोग्राफर वह व्यक्ति होता है, जो Shorthand/Stenography का प्रयोग करके किसी अधिकारी या व्यक्ति के द्वारा दिए जा रहे संभाषण को कम समय में और उसी प्रकार गति से लिखने की क्षमता रखने वाले व्यक्ति को स्टेनोग्राफर कहा जाता है।

स्टेनोग्राफर को समाचार पत्र सरकारी विभाग, संस्थाओं, रेलविभाग या फिर न्यायालय में बोले गए शब्दों को टाइपराइटर या कंप्यूटर किबोर्ड या फिर हाथ की सहायता से तेज गति से लिखना होता है। लगभग सरकार के सभी विभाग या संस्थानों में स्टेनोग्राफर की आवश्यकता होती है।

Stenographer Meaning In Hindi

Stenographer को हिंदी में आशुलिपिक या आशुलिपि-लेखक कहा जाता है।

Work of Stenographer in Hindi – स्टेनोग्राफर का काम

हमें पता है की, हमारे लिखने और बोलने की गति में बहुत अंतर होता है। जैसे की हम जिस गति से बोलते है, उस गति से हम लिख नहीं सकते याने साधारण तौर पर देखा जाये तो जिस गति से कोई व्यक्ति हाथ से लिखता है, उससे कई गुना गति से वह संभाषण या बोलता है। ऐसी परिस्थिति में तेज बोलने वाले अधिकारियों के संभाषण को तेज गति से लिपिबद्ध करने के लिए विशेष रूप से स्टेनोग्राफर को नियुक्त किया जाता है।

स्टेनोग्राफर के प्रकार – Types of Stenographers

स्टेनोग्राफ़ी में युवाओं के लिये अच्छा करियर है, स्टेनोग्राफर का प्रशिक्षण आप 10वी या 12वी कक्षा के बाद भी कर सकते है। और इसे लिखने की कई प्रणाली प्रचलन में है, जिसमे मुख्यतः “हिंदी स्टेनोग्राफर” जो कि हिंदी भाषा को तेज गति से स्टेनोग्राफ़ी में लिख सकते हैं और “इंग्लिश स्टेनोग्राफर” जो कि अंग्रेजी भाषा को स्टेनोग्राफ़ी में लिख सकते हैं।

स्टेनोग्राफर कैसे बने – How to become a Stenographer

जैसे हमने पहले बताया था की आप १०वी या १२वी के बाद स्टेनोग्राफर का कोर्स कर सकते है, जहा स्टेनोग्राफर बनने के लिए कई सरकार या किसी निजी संस्था द्वारा प्रशिक्षण कोर्सेस भी चलाये जाते हैं। स्टेनोग्राफर का पद हर राज्यों के मंत्रालयों में, रेल्वे विभागों में, शासकीय कार्यालयों में, संस्थानों में होते है।

इस पद के लिए हर साल स्टेनोग्राफर की भर्ती से सम्बन्धित विज्ञापन निकलते है। जिसके लिए स्टेनोग्राफर के चयन प्रक्रिया, नियम और योग्यता को पुर्तता करनी पड़ती है, जो की हम नीचे विस्तार से जानेंगे।

स्टेनोग्राफर बनने के लिए आयु सीमा – Age limit for becoming a Stenographer

Stenographer बनने के लिए कम से कम आयु की सीमा 18 वर्ष और अधिकतम 25 वर्ष हो सकती है, और कही कही पर सरकार के नियमों के अनुसार अधिकतम आयु की सीमा में छूट भी दी जाती है। स्टेनोग्राफर बनने के लिए उमेदवार के चयन प्रक्रिया में कंप्यूटर या लिखित परीक्षा और स्किल टेस्ट भी शामिल हो सकते हैं।

स्टेनोग्राफर के लिए शैक्षणिक योग्यता – Educational Qualification for Stenographer

Stenographer ke liye qualification: आशुलिपिक याने स्टेनोग्राफर बनने के लिए 10वी या फिर 12वी पास और स्टेनोग्राफी का डिप्लोमा या फिर सर्टिफिकेट होना आवश्यक है। आशुलिपिक बनने के लिए 80-100 शब्द प्रति मिनट की गति उत्तीर्ण करना आवश्यक होता है। और उमेदवारों को स्टेनोग्राफी स्किल टेस्ट भी देना पड़ता है।

एक कुशल स्टेनोग्राफर बनने के लिए उसे उस विषय की भाषा का अच्छा ज्ञान और व्याकरण का ज्ञान होना बहुत आवश्यक है। स्टेनोग्राफर यह पद अपने अधिकारी के प्रति विश्वसनीय पद होता है, जो की उस व्यक्ति पर अपने कार्यालय की गोपनीय रिकार्डो और दस्तवेजो संभालने का दायित्व होता है।

Stenographer Course – स्टेनोग्राफर प्रशिक्षण

स्टेनोग्राफर बनने के लिए कोर्सेस/Courses to become a Stenographer – स्टेनोग्राफर/स्टेनोग्राफी प्रशिक्षण कोर्स शासकीय संस्थाओं मे जैसे पॉलिटेक्निक कॉलेजों में एम.ओ.एम (आधुनिक कार्यालय प्रबंधन या मॉडर्न ऑफिस मैनेजमेंट) के रूप मे उपलब्ध है। और भारतीय टेक्निकल इंस्टीट्यूट/औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थाओं (ITI) में भी यह कोर्स होता है। जिसकी अवधि १ वर्ष की होती है।

इन स्टेनोग्राफर प्रशिक्षण संस्थाओं में 80-100 शब्द प्रति मिनट की गति से परीक्षाएँ ली जाती है। स्टेनोग्राफर (आशुलिपिक) बनने के लिए 80-100 शब्द प्रति मिनट की गति परीक्षाएँ उत्तीर्ण करना आवश्यक होती है। तब जाके उमेदवार को स्टेनोग्राफी का डिप्लोमा या सर्टिफिकेट मिलता है।

तो उम्मीद करते है की, आपको Stenographer और Stenography क्या है, स्टेनोग्राफर कैसे बने, स्टेनोग्राफर की योग्यता इत्यादी के बारे में काफी कुछ जानकारी मिली होंगी, आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो हमें comments करके बताये और यह पोस्ट अपने दोस्तों में शेअर करे ताकि उन्हें भी इसकी जानकारी मिले। (Stenographer-Stenography in Hindi – स्टेनोग्राफर क्या है, कैसे बने?)

About Rashmi Alone

I am a professional blogger from India. Here at "Hindi Sutra" I write all about Investment, Business, Internet, Management, Technology tips, Education, etc.

2 thoughts on “Stenographer-Stenography In Hindi | स्टेनोग्राफर क्या है, स्टेनोग्राफर कैसे बने?”

Leave a Comment